बंद में ववाल: ग्वालियर-चंबल अंचल में खूनी हिंसा, 4 की मौत आधा सैकड़ा घायल, बिगड़े हालात कर्फ्यू लगा

0
1435

हैरानी की बात: बंद के दौरान पिस्टल लेकर निकला युवक, खुलेआम की फायरिंग, नहीं दिखा किसी का डर...देखिये VIDEO

  ग्वालिययर। दलित संगठनों के भारत बंद के दौरान सोमवार को हालात बेकाबू हो गए। ग्वालियर, भिंड व मुरैना में खूनी हिंसा में चार की मौत हो गई, जबकि आधा सैकड़ा से अधिक लोग घायल हो गए। बंद के दौरान दलित संगठनों के लोगों ने जमकर उपद्रव मचाया। हैरानी की बात यह रही कि कुछ लोग सड़क पर हथियार लेकर निकल पड़े। एक उपद्रवी ने खुलेआम पिस्टल से फायर किए। ऐसे में हालात बिगड़ गए़ । अंचल भर में बंद का व्यापक असर देखने को मिला। ग्वालियर में सेना को बुलाना और कर्फ्यू लगाना पड़ा, जबकि भिंड और मुरैना में धारा 144 लगा दी गई है।
ग्वालियर के हालात
ग्वालियर में सुबह से बंद के समर्थक सड़कों पर निकल आए। बंद के दौरान दलित संगठनों के कार्यकर्ताओं ने जमकर उपद्रव मचाया। जबरन लठ्ठ के जोर पर प्रतिष्ठानों को बंद कराया। प्रतिष्ठानों व वाहनों की तोड़फोड़ की। वाहनों को आग के हवाले कर दिया। राह चलती महिलाओं के साथ अभद्रता की। दलित संगठनों के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हुई। इस दौरान थाटीपुर इलाके में दो युवकों की मौत हो गई। पुलिस ने हालात को बेकाबू होते देख आधा दर्जन थानों के मुरार, गोला का मंदिर व थाटीपुर सहित अन्य इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया है। स्थिति पर काबू पाने के लिए बीएसएफ और एसएएफ के साथ ही सेना को लगाया गया है।
बैखोफ बदमाष…. बेबश प्रशासन
बंद के दौरान सबसे हैरान कर देने वाली एक तस्वीर थाटीपुर इलाके से आईं। जहां उपद्रव के दौरान एक युवक पिस्टल लेकर सड़कों पर आ गया और खुलेआम ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगा। यह पूरा वाक्या कैमरे में कैद हो गया।

मुरैना का नजारा: ट्रेन जलाने की कोशिश
मुरैना में भी बंद के दौरान भीम सेना के कार्यकर्ताओं ने जमकर उत्पात मचाया। सड़कों पर राह चलते लोगों के साथ जमकर मारपीट की। प्रतिष्ठानों में तोड़फोड़ के साथ ही लूटपाट की। ट्रेनों को रोका गया और छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में आग लगाने की नाकाम कोशिश की गई। जबकि हिंसक घटना के दौरान किसनपुर के सरपंच बलदाउ पाठके के बेटे राहुल उर्फ बेटू पाठक नामक युवक की मौत हो गई। हालात पर काबू पाने के लिए कलेक्टर ने धारा 144 लागू कर दी है।


भिंड में फायरिंग: युवक की मौत
भिंड में भी हालात बिगड़े हुए रहे। यहां भी भीम सेना के लोगों ने जमकर उपद्रव मचाया। बेकाबू भीड़ ने ट्रेन को रोका और जमकर ववाल मचाया। इस दौरान पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी, जिसमें महावीर राजावत नामक 32 वर्षीय युवक की मौत हो गई। हालात पर काबू पाने के लिए कलेक्टर ने धारा 144 लागू कर दी है।
पुलिस अफसरों के साथ मारपीट
दलित संगठनों के लोगों ने बंद के दौरान पुलिस अधिकारियों को भी अपना निशाना बनाते हुए उनके साथ भी बेहरमी से मारपीट की। ग्वालियर जिले के डबरा में एडिशनल एसपी राजेश त्रिपाठी को लाठियों से पीट-पीट कर जख्मी कर दिया वहीं मुरैना में एसडीओपी आरकेएस राठौर पर भी हमला बोल दिया। उन पर जमकर पत्थर बरसाए, जिससे वे चोटिल हो गए। ऐसी स्थिति में उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठी चार्ज किया। जबकि कुछ स्थानों पर फायरिंग करनी पड़ी।
हाइवे लगा है लंबा जाम
उपद्रवियों ने टोल नाकों पर भी जमकर तोड़फोड़ कर वाहनों की हवा निकाल दी है। इसके चलते भिंड-ग्वालियर हाइवे पर हजारों वाहनों के खड़े होने के कारण जाम के हालात बने हुए हैं। लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। ट्रेनों से आने वाले लोग स्टेशन से बाहर नहीं निकल पा रहे थे। वे जैसे-तैसे बमुश्किल घर पहुंचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here