CS और DGP की बैठक में महिला MLA को बैठाया पीछे, छुटभैये नेता बैठे रहे आगे

0
1336

बेकद्री @ विधायक का दर्द : महिला हूँ, दलित हूँ,  इसलिए कलेक्टर साहब नहीं रखते प्रोटोकाल का ध्यान करते हैं उपेक्षा। जानिए क्या है हकीकत और क्या बोले कलेक्टर?

ग्वालियर। उनकी सत्ता है, उनकी सरकार है। सत्ता और सरकार के बल पर चाहे कलेक्टर हो या एसपी सब उनके होते हैं, सो वे चुने हुए जनप्रतिनिधि का अपमान कर रहे हैं। ….पता नहीं उनकी मंशा क्या है ? प्रोटोकाॅल का ध्यान ही नहीं रखते। क्या है, क्या नहीं है? ….दो लाख जनता ने हमें चुना है और हमें पीछे बैठाल देते हैं। एसटी हैं, महिला हैं, इसीलिए कलेक्टर साहब भी ध्यान नहीं रखते हैं, एसपी भी ध्यान नहीं रखते। दलित महिला होने के नाते वे हमारी उपेक्षा करते हैं | कल भी की और आज भी की। यह कहना है ग्वालियर जिले की डबरा विधान सभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक इमरती देवी का। वे इन दिनों जिला प्रशासन द्वारा तबज्जों न दिए जाने से खासी नाराज नजर आ रही हैं।                                  उन्होंने अपना दर्द बयां करते हुए ” ग्वालियर लाइव ” से यह बात कही। शनिवार को वे मोती महल में शांति एवं समसरता के लिए आयोजित की गई बैठक में पहुंची थी।
बैठक में प्रदेश के मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह एवं पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने जन प्रतिनिधियों, राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों,सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों एवं प्रबुध्द नागरिकों से चर्चा की।
बैठक में जब विधायक इमरती देवी पहुंची तो वे कुछ पल खड़ीं रहीं। बाद में उन्हें पीछे रखी एक कुर्सी पर बैठाया गया। इसके बाद कमिश्नर बीएम शर्मा ने कलेक्टर की ओर इशारा करते हुए उन्हें आगे बैठाने को कहा। लेकिन हैरानी की बात यह रही कि अग्रिम पंति में बैठे कुछ छुटभैया नेताओं ने उन्हें स्थान देना भी मुनासिब नहीं समझा और वे मन मारकर साडा अध्यक्ष राकेश जादौन के पीछे बैठ गईं। हालांकि बताना होगा कि विधायक बैठक में काफी देरी से पहुंची थी, लेकिन विधायक होने के नाते उन्हें अग्रिम पंक्ति में स्थान देना प्रोटोकाल के दायरे में आता है। इस बारे में जब हमने कलेक्टर से चर्चा की तो उन्होंने विधायक को सम्मान देने की बात कही।


बैठक में SADA अध्यक्ष राकेश जादौन के पीछे अलग से बैठी विधायक इमरती देवी |

पूर्व विधायक को भी नहीं मिली जगह
यही नहीं पूर्व विधायक मदन सिंह कुशवाह को भी कोई तबज्जों नहीं मिली। उन्हें भी दूसरी लाइन में कुर्सी नसीब हुई। वह भी जन संपर्क अधिकारी हितेंद्र भदौरिया ने उनका सम्मान करते हुए अपनी कुर्सी से उठकर उन्हें स्थान दिया।

हमने तो रखा था उनका मान
विधायक हमारे लिए सम्मानीय हैं। दरअसल वे बैठक में देरी से आईं थीं, इस दौरान अन्य लोगों ने स्थान ग्रहण कर लिया था। फिरभी हमने अलग से कुर्सी रखवाकर अपने पास बिठाया और उनका सम्मान रखा।
राहुल जैन,कलेक्टर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here