भाजपा के दलित सांसदों ने ‘दलित-विरोधी’ मोदी सरकार की खोल दी है पोल

0
87

असली चेहरा @ भारत बंद के बाद दलित सांसदों ने उजागर की मोदी सरकार की हकीकत
केंद्र सरकार को दलित-विरोधी बताते हुए कांग्रेस ने रविवार को कहा कि बीजेपी के ही दलित सांसदनों ने मोदी सरकार के दलित-विरोधी चेहरे को उजागर कर दिया है। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मसले पर ‘चुप्पी’ तोड़ने और बीजेपी के दलित सांसदों की चिंताओं पर जवाब देने की मांग की है। बीजेपी के 5 दलित सांसदों के बयानों का हवाला देते हुए कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने दावा किया कि सांसदों ने साबित कर दिया है कि मोदी सरकार भारत को ‘दलित-मुक्त’ बनाने के लिए काम कर रही है।शेरगिल ने कहा कि अनुसूचित जाति के लोगों की स्थिति का अंदाजा इसी से लग सकता है कि सत्ताधारी पार्टी के सांसद भी डरे हुए और चिंतित हैं। 2014 के चुनावों में मोदी के ‘चाय पर चर्चा’ अभियान और रेडियो पर उनके ‘मन की बात’ पर तंज कसते हुए कांग्रेस प्रवक्ता ने पूछा कि प्रधानमंत्री अपनी ही पार्टी के दलित सांसदों के ‘मन की बात’ के सुनने के लिए चर्चा कब करेंगे।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि दलितों पर अत्याचार की बढ़ती घटनाएं इतने खतरनाक स्तर पर पहुंच चुकी हैं कि बीजेपी के ही सांसद अब कह रहे हैं कि मोदी सरकार ने दलितों के कुछ नहीं किया है और उनकी स्थिति इस सरकार के दौरान और खराब हुई है। शेरगिल ने कहा कि बीजेपी सांसदों- उदित राज, साबित्री बाई फूले, छोटे लाल खरवार, अशोक कुमार दोहरे और यशवंत सिंह के बयानों ने सरकार के हवा-हवाई दावों की हवा निकाल दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here