स्मार्ट सिटी योजना @ विकास की होड़ में आगे रहने जरूरी है सभी का साथ : नरेंद्र सिंह 

ग्वालियर। आधुनिक युग विकास की प्रतिस्पर्धा का युग है। तेजी से विकसित होते शहरों के बीच विकास की होड़ लगी हुई है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि अपने शहर के बेहतर विकास के लिए हम सब मिलकर काम करें। साथ ही ऐसे अनूठे नवाचार करें, जिससे देश के पर्यटन मानचित्र पर ग्वालियर प्रमुखता से उभरे। केंद्रीय पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने यह बात कही।

उन्होंने यह बात स्मार्ट सिटी के तहत विकसित होने जा रहे लेडीज पार्क एवं नेहरू पार्क के कंपू स्थित नेहरू पार्क में आयोजित भूमि पूजन कार्यक्रम में बतौर मुख्यअतिथि के कही।  कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री माया सिंह ने की।

स्मार्ट सिटी के कार्यों को दें मूर्तरूप: तोमर                                                                                                            केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि स्मार्ट सिटी की प्रतिस्पर्धा में ग्वालियर का चयन कराने में शहरवासियों का सबसे अहम योगदान रहा है। उसी तरह शहरवासियों को अब स्मार्ट सिटी के कार्यों को उत्कृष्ट रूप से मूर्त रूप देने में योगदान देना होगा। तभी हम अपने शहर को स्मार्ट शहर बना पायेंगे।

उन्होंने कहा कि ग्वालियर स्वच्छ, सुंदर, डिजिटल, अत्याधुनिक चिकित्सा सेवाओं से युक्त और हर हाथ को काम देने वाला शहर बनेगा। तभी सही मायने में स्मार्ट सिटी की अवधारणा सार्थक होगी। यह सब शहरवासियों के सहयोग से ही संभव होगा। उन्होंने कहा कि खुशी की बात है कि ग्वालियर में स्मार्ट सिटी के तहत पार्कों का आधुनिकीकरण होने जा रहा है। साथ ही शहर के 40 सरकारी स्कूल डिजिटल स्कूल में तब्दील किए जा रहे हैं। देश की मजबूत बुनियाद से ही नए भारत का निर्माण होगा। प्रधानमंत्री ने इसी सोच के साथ 9 अगस्त 2017 को संकल्प लिया है कि वर्ष 2022 तक देशवासियों के सहयोग से नए भारत का निर्माण करेंगे।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा इसके लिये हमें यह प्रवृत्ति छोड़नी होगी कि बिना कुछ करे ही सब कुछ मिल जाए। हम सबकी जिम्मेदारी है कि अपने चरित्र और व्यवहार में अच्छी बातें समाहित करें और दूसरों को भी प्रेरणा दें।

इन पार्कों में मिलेंगे सुकुन के पल: माया सिंह                                                                                                       प्रदेश  की मंत्री माया सिंह ने कहा कि लेडीज एवं नेहरू पार्क में अत्याधुनिक वो सभी सुविधायें जुटाई जायेंगीं, जिनसे भाग-दौड़ भरी जिंदगी में लोगों को यहाँ सुकून के पल मिल सकें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने  7 स्मार्ट सिटी के साथ-साथ प्रदेश के अन्य शहरों के विकास के लिये भी सुनियोजित योजना बनाई है। प्रतिस्पर्धा के जरिए प्रदेश के एक दर्जन शहरों को मिनी स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने का निर्णय सरकार ने लिया है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा 378 नगर पालिका व नगर पंचायतों को ई-नगर पालिका में तब्दील किया जा रहा है। साथ ही प्रदेश की अवैध कॉलोनियों को वैध करने की कार्ययोजना सरकार ने तैयार कर ली है। जल्द ही इस पर अमल किया जायेगा।

 हैरिटेज स्वरूप में दिखेगा बाड़ा: महापौर

महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत 2300 करोड़ से अधिक लागत से विकास कार्य कराए जायेंगे। लगभग 830 एकड़ क्षेत्र में हैरिटेज स्वरूप में महाराज बाड़ा क्षेत्र को स्मार्ट सिटी के तहत विकसित किया जायेगा। साथ ही अत्याधुनिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट और शहर के सभी 66 वार्डों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन का काम भी स्मार्ट सिटी के तहत होगा। विधायक नारायण सिंह कुशवाह ने स्मार्ट सिटी के तहत ग्वालियर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत लगभग 850 हैक्टेयर क्षेत्र को स्मार्ट बनाने के निर्णय का स्वागत किया और क्षेत्रीय निवासियों की ओर से आभार जताया।

ये रहे मौजूद 

कार्यक्रम में विधायक भारत सिंह कुशवाह, नगर निगम सभापति राकेश माहौर, पार्षदगण सतीश बोहरे, गंगाराम बघेले, केशव सिंह, दिनेश दीक्षित, महेन्द्र सोलंकी, धर्मेन्द्र कुशवाह, खुशबू गुप्ता, नीलिमा शिंदे, नगर निगम के पूर्व सभापति बृजेन्द्र सिंह जादौन,  कमल माखीजानी, प्रदीप जैन, नगर निगम आयुक्त  विनोद शर्मा व स्मार्ट सिटी सीईओ बिदिशा मुखर्जी प्रमुख रूप से उपस्थित थीं।

 नेहरू पार्क: इस तरह संवरेगा पार्क  

स्मार्ट सिटी के तहत लगभग 4 करोड़ की लागत से नेहरू पार्क का आधुनिकीकरण किया जायेगा। जो भी कार्य कराए जायेंगे, उनके रख-रखाव की पाँच साल तक की जवाबदेही कार्य एजेन्सी की होगी। पार्क में म्यूजिकल फाउण्टेन, योगा एरिया, सेमी कबर्ड ओपन जिम, चिड़ियों को दाना चुंगाने का क्षेत्र, बच्चों के खेलने का क्षेत्र, आराम करने का स्थल, फुलवारी, घास के टापू, लता मंडप तथा बॉलीबॉल व बैडमिंटन के कोर्ट बनाये जायेंगे। यह पार्क 9 माह में बनकर तैयार होगा।

लेडीज पार्क: होगा अत्याधुनिक  

लेडीज पार्क (छत्री उद्यान पार्क) के आधुनिकीकरण पर लगभग 2 करोड़ 3 लाख रूपए की राशि खर्च की जायेगी। इस पार्क में भी सेमी कबर्ड ओपन जिम, योगा क्षेत्र, चिड़ियों को दाना चुंगाने का क्षेत्र, बच्चों के खेलने का क्षेत्र, फूल वाटिका, घास के टापू, लता मंडप, बॉलीबॉल व बैडमिंटन कोर्ट, आराम करने का स्थान, परफोरमेन्स स्टेज व महिलाओं के लिये शौचालय बनाये जायेंगे। यह पार्क 7 महीने में बनकर तैयार होगा। कार्य एजेन्सी की 5 साल तक रख-रखाव की जिम्मेदारी होगी।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *